पिटारा में अपनी पसंद की फीड जोड़ें

नये वर्ष पर पिटारा टूलबार के प्रयोगकर्ताओं को यह शानदार तोहफा देते हुए हमें बहुत ही हर्ष हो रहा है। अब आप अपने टूलबार में अपनी पसंद का कोई भी फीड जोड़ सकते हैं।  यानि कि अब आप केवल वही फीड नहीं देख पायेंगे जो कि हम टूलबार में जोड़ेंगे बल्कि अपनी पसंद की कोई भी फीड अपने टूलबार में जोड़ सकेंगे।





अपने टूलबार में अपनी पसंद का फीड जोड़ने के लिये आप इस साईट पर जायें। यहां आप जिस साईट का फीड जोड़ना चाहते हैं उसका नाम और फीड का URL  भरें, चाहें तो आईकन जोड़ें और फीड को जोड़ने के लिये ’जोड़ें’ बटन पर क्लिक करें। बस इतने भर से आप अपनी जोड़ी हुई फीड पिटारा में देख पायेंगे।



आप आईकन के लिये यह पता भी भर सकते हैं।



इस टूल से आप अपनी पसंद के किसी भी चिट्ठे या एग्रिगेटर का फीड या अन्य कोई भी मनपसंद फीड जब चाहे पढ़ सकते हैं।



हमारे इस प्रयास के बारे में अपनी राय अवश्य दें।

इसे भी पढ़ें

काम के हिंदी फीड

न्यूज टिकर और पाकिस्तानी समाचार

पाकिस्तान में हुए ताजा घटना क्रम को देखते हुए पिटारा टूलबार पर समाचार टिकर लगाया गया है तथा रेडियो में पाकिस्तान के जियो टीवी की ऑडियो फीड जोड़ी गयी है।

ब्लॉगवाणी हिंदी टूलबार पिटारा से हटा

ब्लॉगवाणी ने हमें अनुरोध करके ब्लॉगवाणी का लिंक और फीड हिंदी टूलबार पिटारा से हटाने का अनुरोध किया है।  उनका आग्रह मानते हुए हमने अपने टूलबार से ब्लॉगवाणी का लिंक और फीड हटा दिये हैं।



इस कारण से पिटारा के प्रयोगकर्ताओं को होने वाली असुविधा के लिये हमें खेद है।

एक क्लिक से चिट्ठाजगत की श्रेणियां

आज जब 1300 से ज्यादा हिंदी चिट्ठे हैं, हर चिट्ठे को पढ़ पाना मुमकिन नहीं है। फिर यह भी हो सकता है कि कवितायें पढ़ने वालों को शेयरबाजार के चिट्ठों में रुचि न हो। यह भी हो सकता है कि खेलों से जुड़े चिट्ठे पढ़ने वालों को कविताओं में रुचि न हो। किसी को केवल तकनीकी जानकारी  देने वाले चिट्ठे पढ़ने की रुवि होगी तो किसी को समाचारों के चिट्ठे पढ़ने की। फिर यदि आपको सारे चिट्ठे पढ़ने हैं तो वे भी उपलब्ध हैं ही।

अलग अलग श्रेणियों में प्रस्तुत चिट्ठे उन के लिये बहुत उपयोगी होंगे जो लोग चिट्ठाकार न हो कर चिट्ठापाठक हैं। हर तरह के  हजारों चिट्ठों में अपनी पसंद के चिट्ठे यदि पाठक को एक ही स्थान पर मिल जाते हैं तो पठक के लिये यह काफी सुविधाजनक हो जायेगा।

यहां आपको यह बता दें कि चिट्ठाजगत.इन पर दी गयी इस सुविधा का बहुत से पाठक प्रयोग कर रहे हैं और चिट्ठाजगत पर दी गयी अलग अलग श्रेणियों के पृष्ठों  पर क्लिक   कर के  हमारे चिट्ठों पर आ रहे हैं।

नीचे के चित्र में मजेदार समाचार पर आने वाले पाठकों की जानकारी है।



हिंदी टूलबार पिटारा में हमने चिट्ठाजगत की सभी श्रेणियों को जोड़ दिया है अब आप सीधे एक ही क्लिक से चिट्ठाजगत की किसी भी श्रेणी के पृष्ठ पर जा सकते हैं।

 इसे भी पढ़ें

धड़ाधड़ महाराज’ तक पहुंचें धड़ाधड़

अब चिट्ठों में खोजें धड़ाधड़

कुछ मजेदार और काम के टूल - 2

कल हमने हिंदी टूलबार पिटारा में कुछ मजेदार और काम के टूल जोड़े थे।आज हमने कुछ और टूल जोड़े हैं आइये उनके बारे में जान लें।

1. Whois डोमेन किसका है जानें: क्लिक करते ही आप जिस साईट पर हैं उसका डोमेन किसके नाम से रजिस्टर है आपको पता चल जायेगा।

2. इस पेज का लिंक बनायें: यह नये और पुराने चिट्ठाकारों के बहुत ही काम का टूल है। आप जिस पेज पर भी होंगे यदि आप उसका लिंक अपनी पोस्ट अथवा टिप्पणी में देना चाहते हैं तो यहां क्लिक करते ही आपको उस पेज के लिंक का HTML कोड मिल जायेगा।

3. इस साइट के मुख्य पेज पर जायें: आप साइट के जिस पेज पर भी होंगे यहां क्लिक करते ही उस साइट के मुख्य पेज पर पहुंच जायेंगे।

आप भी आजमा कर देखें।

हिंदी टूलबार यहां से डाउनलोड करें

कुछ मजेदार और काम के टूल-1

कुछ मजेदार और काम के टूल

पिटारा टूलबार के टूल मिनू में आज हमने कुछ मजेदार और काम के टूल जोड़े हैं। आप भी इनका मजा लें:

इस पेज पर चित्रों को बड़ा करें: आप जिस पेज पर भी होंगे उस पेज पर सभी चित्र (Images) बड़े हो जायेंगे।

इस पेज पर चित्रों को छोटा करें: आप जिस पेज पर भी होंगे उस पेज पर सभी चित्र (Images) छोटे हो जायेंगे।


Tiny URL: बड़े URL पते को छोटा बनायें। आप जिस जाल पेज पर होंगे उसका छोटा URL पता बन जायेगा।


इस पेज के सारे लिंक दिखायें: इसे क्लिक करते ही आप जिस पेज पर होंगे उस पर जितने भी लिंक होंगे सभी की एक लिस्ट आपको नजर आ जायेगी।


इस पेज के सारे लिंक हाइलाईट करें: इसे क्लिक करते ही आप जिस पेज पर होंगे उस पर जितने भी लिंक होंगे सभी अलग से हाइलाइट हो जायेंगे।


इस साइट के किसी भी पेज पर (Random) जायें: इसे क्लिक करते ही आप जिस साइट पर होंगे उस साइट पर स्थित लिंकों में से किसी एक लिंक पर आकस्मिक पहुंच जायेंगे।


इस साइट की  RSS फीड गूगल पर सब्सक्राइब करें: जिस पेज या चिट्ठे पर होंगे उसकी फीड को सीधे ही एक क्लिक से अपने गूगल रीडर में सब्सक्राइब कर सकेंगे।


हमें बताना न भूलें कि आपको हमारे यह टूल कैसे लगे।


हिंदी टूलबार पिटारा यहां से डाउनलोड करें।



अपने चिट्ठे के लिये लिप्यांतर कोड आसानी से बनायें

आपने कई चिटठों पर लिपि बदल कर पढ़ने के लिंक देखे होंगे। लिप्यांतर की यह सुविधा भोमियो द्वारा दी गयी है। यह कोड कैसे बनता है इसके बारे में आप भोमियो की यह पोस्ट पढ़ें।

हिंदी टूलबार पिटारा से आप यह कोड बहुत ही आसानी से बना सकते हैं।

अपने चिट्ठे के मुख्य पृष्ठ पर जायें। पिटारा टूलबार के टूल मीनू पर क्लिक करें। इसके बाद ’लिपि बदल कर पढ़े’ पर जायें और वांछित लिपि पर क्लिक करें। आपका चिट्ठा उस लिपि में बदल जायेगा। अब अपने ब्राउजर से URL  को कापी कर लें। यह आपके चिट्ठे का उस लिपि के लिये लिंक होगा।



आगे की प्रक्रिया एक उदाहरण से समझते हैं।

यह रहा पिटारा के रोमन चिट्ठे का URL

http://bhomiyo.com/en.xliterate/hinditoolbar.wordpress.com/

अब रोमन लिंक बनाने के लिये निम्न कोड में अपने URL को भरें

<a href="यहां अपने चिट्ठे का रोमन URL भरें">रोमन</a>

इसी प्रकार बाकी लिपियों का भी लिंक बनायें और उसे अपने चिट्ठे पर सहेज दें।

कृपया पिटारा के संपूर्ण हिंदीकरण में सहायता दें

पिटारा टूलबार को पूरी तरह से हिंदी में करने के लिये आप सभी की सहायता चाहिये।अभी तक हमने केवल जाल स्थलों के नाम तथा लिंक आदि ही हिंदी में लिखे थे। अब इस टूलबार की सभी तकनीकि विकल्पों और सूचियों का हिंदीकरण किया जा रहा है।तकनीकि शब्दों के हिंदीकरण में मेरी कुछ सीमायें हैं क्योंकि मुझे  तकनीकि शब्दों के हिंदी अर्थों  का इतना ज्ञान नहीं है। आप दो तरीके से सहायता कर सकते हैं

1. जो हिंदी हमने टूलबार पर प्रयोग की है उसे जांच कर  और यदि हो सके तो कोई बेहतर वैकल्पिक शब्द सुझा कर।

2. जो तकनीकि शब्द या वाक्य अभी भी टूलबार पर अंग्रेजी में नजर आ रहे हैं उनकी हिंदी सुझा कर। आप अपने सुझाव यहां टिप्पणी के रूप में  दे सकते हैं अथवा hinditoolbar at gmail dot com पर मेल भी कर सकते हैं।

हिंदी टूलबार पिटारा यहां से डाउनलोड करें

पिटारा का अंग्रेजी संस्करण cnet.com पर

आप सभी को यह बताते हुए मुझे बहुत खुशी हो रही है कि पिटारा का अंग्रेजी संस्करण We Indians Toolbar भी cnet.com के download.com पर लिस्टिंग के लिये स्वीकृत हो गया है।

अंग्रेजी संस्करण में हिंदी के साथ साथ अन्य भारतीय भाषाओं के चिट्ठों तथा जाल पृष्ठों के लिंक तथा फीड भी दिये गये हैं।

हिंदी टूलबार पिटारा को इस साईट पर इसी साल मार्च में लिस्ट किया गया था। लिस्टिंग के बाद से लगातार पिटारा टूलबार वहां पॉपुलर श्रेणी में बना हुआ है।अब पिटारा का नया रूप भी वहां स्वीकृत हो गया है तथा नये रूप की स्क्रीन शॉट भी वहां दिख रही है।  पिटारा के बारे में download.com ने यह लिखा:
This is a Toolbar made for Users in India who use Hindi on Internet by Hindi lover and Hindi User. As devloper of this Toolbar is interested in promotion of Hindi on the Internet. Hindi is being promoted by the devloper of this Toolbar in many ways.

मेरा हमेशा प्रयास रहा है कि पिटारा टूलबार को चिट्ठाकारों के अलावा अन्य लोगों तक भी पहुंचाया जाये इसीलिये इसे अधिक से अधिक उपयोगी बनाने की कोशिश जारी रहती है।

इन टूलबारों को यहां तक पहुंचाने के लिये मैं इनके प्रयोगकर्ताओं को धन्यवाद देना चाहता हूं। साथ ही अपने उन सभी मित्रों का धन्यवाद देना चाहता हूं जिन्हों ने इन टूलबारों को बेहतर बनाने के लिये अपना सहयोग तथा सुझाव दिये।

कचरा हिंदी दिखे तो क्या करें?

यदि आपको मिलने वाली ईमेल में हिंदी की जगह पर कचरा नजर आ रहा है तो हिंदी टूलबार पिटारा के टूल मीनु में हमने एक यूनिकोड हिंदी रिपेयर टूल (Unicode Hindi Repair Tool)  का लिंक जोड दिया है

http://lang.ojnk.net:80/hindi/unifix.html

इस लिंक के बारे में रवि जी ने चिट्ठाकार समूह पर बताया।

तो अब जब भी मेल में आपको हिंदी की जगह कचरा हिंदी नजर आये तो उसे कापी करके इस लिंक पर दिये गये स्थान पर चिपकायें और फिक्स इट का बटन दबा दें। इसके बाद आप इसे पढ़ पायेंगे।

एक शानदार उपहार है ’गर्भनाल’ पत्रिका

’गर्भनाल’ अप्रवासी भारतीयों की ई पत्रिका है जो कि हर महीने पीडीएफ के रूप में मुफ्त वितरित की जाती है। श्री आत्माराम शर्मा जी के संपादन में छप रही यह शानदार पत्रिका कई हिंदी प्रिंट पत्रिकाओं से भी बेहतर और खूबसूरत है। मुझे यह पत्रिका बहुत पसंद है और प्रति माह जब यह पत्रिका मुझे मिलती है तो मैं इसे अपने कई मित्रों को भी  भेजता हूं।

मुझे पूरा यकीन है कि मनोरंजन, साहित्य  और जानकारी से भरपूर यह पत्रिका आप सब को भी बहुत पसंद आयेगी।

हिंदी टूलबार पिटारा  के प्रयोगकर्ताओं के लिये अब यह पत्रिका हर महीने टूलबार में ही उपलब्ध रहेगी। आज प्रस्तुत है इस पत्रिका का नवंबर 2007  अंक। गर्भनाल पत्रिका से सभी अंक अब टूलबार में जोड़ दिये गये हैं। गर्भनाल पत्रिका के सभी अंक आप यहां भी पढ़ सकते हैं।



गर्भनाल पत्रिका से सभी अंक अब टूलबार में जोड़ दिये गये हैं। गर्भनाल पत्रिका के सभी अंक आप यहां भी पढ़ सकते हैं।

अब चिट्ठों में खोजें धड़ाधड़

क्या आपको यह खोजना है कि आपका चिट्ठा चिट्ठाजगत.इन पर है कि नहीं?

किसी और चिट्ठे को खोजना चाहते हैं?

हिंदीचिट्ठों की प्रविष्टियों में से कुछ खोजना चाहते हैं?

किसी चिट्ठाकार का नाम तो जानते हैं पर वो किस चिट्ठे पर लिखता है और उसका चिट्ठा किस नाम से है यह नहीं जानते?

किसी एक चिट्ठाकार के और भी कौन कौन से चिट्ठे हैं यह जानना चाहते हैं ?

यह सब जानकारी और और भी बहुत कुछ अब एक क्लिक पर धड़ाधड़ क्योंकि हमने अपने हिंदी टूलबार पिटारा में यह सब खोजने के लिये इसके सर्च इंजिन में ही यह सारे विकल्प जोड़ दिये हैं। बस इन सब में से जो कुछ भी आप जानना चाहते हैं उसे सर्च बॉक्स में टाईप करें और खोजें।

यहां आपको यह भी बता दें कि यदि आप कोई भी टैक्स्ट अपने माऊस से सेलेक्ट करते हैं तो वह अपने आप ही सर्च बॉक्स में पहुंच जायेगा।

अब तो आप ’ढूंढते रह जाओगे’ !
chitthajagat.jpg

इसे भी पढ़ें:

धड़ाधड़ महाराज’ तक पहुंचें धड़ाधड़

काम के हिंदी फीड

हमने हिंदी टूलबार पिटारा में कुछ बहुत ही काम के हिंदी फीड जोड़े हैं।

आइये आपको इनके बारे में बता दें।

इस टूलबार में चिट्ठाजगत और नारद के ताजे जीवंत फीड तो पहले से ही मिल रहे थे अब आपको इनके साथ साथ निम्न फीड भी मिलेंगे

  • चिट्ठाजगत की रोमन फीड : चिट्ठाजगत पर आने वाली हिंदी चिट्ठों की रोमन फीड

  • IndianPad Hindi इंडियन पैड हिंदी : इंडियन पैड तेजी से भारत का अपना डिग्ग बनता जा रहा है। यहां पर भारतीय समाचार तथा ब्लॉग प्रविष्टियां समाहित की जातीं हैं और यदि आपकी कोई प्रविष्टी यहां पापुलर पेज पर आ गयी तो समझिये कि आपके चिट्ठे पर पाठकों का तांता लग जायेगा। हमने इंडियन पैड पर आने वाली पापुलर हिंदी प्रविष्टियों की फीड को भी टूलबार में जोड़ दिया है।

  • देसीपंडित हिंदी : देसी पंडित पर कई भारतीय भाषाओं के चिट्ठों से चुन चुन कर अच्छे अच्छे पोस्ट दिये जाते हैं। यहां आने वाले हिंदी पोस्ट का फीड भी अब टूलबार में जोड दिया गया है।

  • del.icio.us पर हिंदी : यह है del.icio.us पर पापुलर पोस्टों में से चुने हुए वह पोस्ट जो कि हिंदी के साथ टैग किये गये हैं।         

  • गूगल समूह चिट्ठाकार: इस समूह पर आने वाले संदेश अब आप इस फीड में पढ़ सकते हैं। इसके बारे में विस्तार से यहां पढ़ें।

  • परिचर्चा : परिचर्चा फोरम पर आने वाले सभी नये पोस्ट। परिचर्चा एक फोरम है इंटरनेट पर हिंदी प्रयोग करने वालों के लिये। आप यदि इस फोरम के सदस्य नहीं हैं तो आज ही इसके सदस्य बनें। इस फोरम के बारे में जानना चाहते हैं तो इस फोरम पर जा कर ही जानें। (नोट: परिचर्चा की फीड फिलहाल IE7 में अपडेट नहीं हो रही है इसे शीघ्र ही सुधार लिया जायेगा)


तो यह सब अब आपके प्रिय हिंदी टूलबार पिटारा में जुड़ गया है तथा इस सब को आप जीवंत फीड के द्वारा पढ़ सकते हैं।
आपके सुझावों हमारे लिये बहुत उपयोगी हैं, आप अपने इस टूलबार में और क्या क्या जुड़वाना चाहते हैं हमें सुझाव अवश्य दें।

शब्दों के अर्थ खोजना हुआ आसान

शब्दार्थ खोजिये


जिन्हें भाषाओं से प्यार होता है उन्हें शब्दों से भी प्यार होता है। कोई कोई लेखक तो शब्दों के ही खिलाड़ी होते हैं। शब्दों के ऐसे सुन्दर सुन्दर और कलात्मक प्रयोग हुए हैं कि पूछिये मत। वास्तव में अच्छा लेखक ही वही है जो अपनी बात को प्रभावी और आसान शब्दों में अपने पाठकों तक पहुंचा दे।

मगर साहब कभी कभी कोई शब्द दिमाग में ऐसे अटकते हैं कि उनके अर्थ बता पाना कठिन हो जाता है। शब्द के भाव मन में होते हैं पर उसके अर्थ के लिये सही सही समानार्थ शब्द क्या होगा यह नहीं सूझता। कभी कभी आपको भी अपनी बात लिखते लिखते ऐसा लगता होगा कि जो  बात मैं लिखना चाहता हूं उसके लिये सही सही शब्द पकड़ में नहीं आ रहा। या कभी किसी अंग्रेजी शब्द का हिंदी अर्थ खोजना होता होगा तो कभी  हिंदी शब्द का अंग्रेजी अर्थ। हमने आपकी इस मुश्किल को आसान बनाया है शब्दकोश डॉट कॉम के साथ। इस शब्दकोश को हमने हिंदी टूलबार पिटारा में जोड़ दिया है। यदि आप इंटरनेट पर सर्च करते करते कोई ऐसा शब्द (अंग्रेजी अथवा हिंदी का) देखते हैं जिसका सही सही भावार्थ आपको  समझ नहीं आ रहा तो बस उस शब्द को अपने माउस से सैलेक्ट कर लीजिये। शब्द अपने आप टूलबार के सर्च बॉक्स में नजर आने लगेगा। अब बस सर्च बॉक्स में हमने जो शब्दकोश का ओप्शन दिया है उसे चुन कर सर्च करने के तीर पर चटका दे दीजिये। आपको शब्द का अर्थ और समानार्थक शब्द मिल जायेंगे।


तो अब शब्दों को चुन चुन कर उनसे सजाइये अपनी भाषा और आपको हमारा यह प्रयास कैसा लगा हमें अवश्य बताइये।

प्रस्तुत है हिंदी टूलबार पिटारा का अंग्रेजी संस्करण

यह संयोग की ही बात है कि जिस समय हिंदी चिट्ठों के एग्रिगेटर चिट्ठों का रोमनीकरण कर रहे थे उसी समय हम आपके प्रिय हिंदी टूलबार पिटारा का अखिल भारतीय अंग्रेजी संस्करण बना रहे थे। एक ऐसा टूलबार जिसे भारत के सभी लोग प्रयोग कर सकें और उन्हें अपनी ही मातृभाषा में इंटरनेट पर उपस्थित जालपृष्ट और चिट्ठे मिल सकें।

इससे वे लोग अपनी ही नहीं दूसरी भारतीय भाषाओं में इंटरनेट पर क्या हो रहा है उसके बारे में भी जान पायेंगे। हमारे भोमियो लिप्यांतर (Bhomiyo Transliteration) बटन का उपयोग इस टूलबार के लिये बहुत ही महत्वपूर्ण होगा। इस टूलबार में देसी पंडित जो कि सभी भारतीय भाषाओं के चिट्ठों का एक साथ प्रतिनिधित्व करता है, को महत्व दिया गया है। 

इसमें अभी बहुत से भारतीय भाषाओं के चिट्ठा एग्रीगेटरों और अन्य पोर्टलों के लिंक जुड़ने बाकी हैं जो कि एक लंबी प्रक्रिया है और लगातार चलती रहेगी। आपसे अनुरोध है कि हिंदी के अलावा अन्य भारतीय भाषाओं के एग्रीगेटरों के जाल पते यदि आप जानते हैं तो हमें सुझायें।


मित्रो प्रस्तुत है आपके लिये वी इंडियन्स टूलबार We Indians Toolbar. 

इसे डाउनलोड करें, अपनी प्रतिक्रिया बतायें, सुझाव दें और अपने मित्रों को भी इस टूलबार के बारे में बतायें।

हिंदी टूलबार पिटारा में क्या है नया

हिंदी टूलबार पिटारा में हमने कुछ बदलाव किये हैं उनके बारे में आपको बता दे।


टूलबार के कुछ मुख्य बटनों को मुख्य टूलबार से हटा कर ड्रॉपडाउन मीनू में लगा दिया गया है। इससे टूलबार का आकार छोटा हो गया है जिससे कि टूलबार आपके स्क्रीन पर पूरा दिखने लगेगा। हो सकता है कि कुछ स्क्रीन्स पर अभी भी टूलबार पूरा न दिखे इसके लिये हम अगली कुछ पोस्टों में विस्तार से लिखेंगे।


एग्रीगेटर बटन का नाम बदल कर चिट्ठे कर दिया गया है तथा आपके चिट्ठों की सूची को इसी मीनू में लगा दिया गया है।


टूल नाम से नया ड्रॉपडाउन मीनू बनाया गया है जिसमें गूगल का इंडिक ट्रांसलिट्रेशन विजेट, गूगल हिंदी खोज विजेट, पेज बुकमार्क बटन तथा भोमियो लिप्यांतर बटन लगाये गये हैं।


 


गेम्स के बटन को मंनोरंजन के मीनू में लगा दिया गया है।


इसके अलाव हाल ही में किये गये बदलावों में हैं


रेडियो का नया डिजाइन -    आपने हमारा नया रेडियो देखा?


रेडियो सलाम नमस्ते और बॉम्बे बीट्स चैनल जुड़े - रेडियो सलाम नमस्ते


एक क्लिक से लिप्यांतर-  न कोई कोड चाहिये न स्क्रिप्ट, टूलबार पर क्लिक करें और लिपि बदल जायेगी


न कोई कोड चाहिये न स्क्रिप्ट, टूलबार पर क्लिक करें और लिपि बदल जायेगी

क्या आप पंजाबी, गुजराती, उर्दू, तेलुगू, उड़िया, तमिल, मलयालम या कन्नड़ समझते हैं पर पढ़ नहीं सकते?क्या आप इन भाषाओं के चिट्ठे पढ़ना चाहते हैं पर क्या करें चिट्ठाकार के भोमियो कोड ही नहीं लगा रखा?

आप अपने चिट्ठे को दूसरी लिपियों में पाठकों को पढ़वाना चाहते हैं पर जानते नहीं कि भोमियो कोड कैसे बनायें या लगायें?

क्या आप देखना और पढ़ना चाहते हैं कि उर्दू या अन्य भाषाओं के चिट्ठों, समाचार पोर्टल्स और साईट्स पर क्या क्या क्या लिखा जा रहा है?

यह सब तथा और भी बहुत कुछ अब संभव होगा हिंदी टूलबार पिटारा पर लगे भोमियो के लिप्यांतर बटन से, जिससे आप किसी भी साईट की लिपि बदल कर पढ़ सकेंगे। टूलबार के टूल मिनू में ’लिपि बदल कर पढ़ें’ ऑप्शन पर क्लिक करके आप जिस पृष्ठ पर होंगे उसी पृष्ठ की लिपि बदल सकेंगे, बस एक क्लिक से। इस तरीके से आप अपने चिट्ठे के लिये भी भोमियो कोड बना सकते हैं।

अपने चिट्ठे पर जायें और टूलबार पर लिप्यांतर के सभी ऑप्शन्स पर क्लिक करें। ब्राउजर में जो भी URL खुलेगा, वह उस लिपि के लिये आपके चिट्ठे का लिंक होगा।

तो है ना यह सब बहुत आसान?

टूलबार के मिनू में भी कई परिवर्तन किये गये हैं उसके बारे में अगले पोस्ट में।

लिप्यांतर के क्या क्या फायदे हैं उनके बारे में यहां भी पढ़ें
किसी भी साईट का लिप्यांतर होगा एक क्लिक से

आप को पाठक और डॉलर दोनो मिल सकते हैं इससे

ट्रांसलिट्रेशन का प्रतिच्छेदन....

गुयाना में हिन्दी है पर देवनागरी गुम

रेडियो सलाम नमस्ते Radio Salaam Namaste



डैलास का रेडियो सलाम नमस्ते 104.9 एफ एम (Radio Salaam Namaste 104.9 FM)  इंटरनेट पर रेडियो सुनने वालों की खास पसंद बन चुका है। एक खास अनुरोध पर हमने इस रेडियो स्टेशन को हिंदी टूलबार पिटारा में जोड़ दिया है।

आप भी इस रेडियो को सुनें और अपनी राय बतायें।

यदि आप भी कोई रेडियो चैनल अपने इस टूलबार में जुड़वाना चाहते हैं तो हमें अवश्य बतायें।

हिंदी टूलबार बन गया ’पिटारा’

यूनुस भाई ने हिंदी टूलबार के बारे में लिखा:
कमाल है । इत्‍ती सारी चीज़ें एक साथ । ये तो जादू का पिटारा है ।

तो हमने सोचा क्यों न इस टूलबार का नाम पिटारा रख दिया जाये। तो टूलबार को पहचान देने के लिये यह नाम हमें बहुत सही लगा। अब से हिंदी टूलबार का नाम हो गया है ’पिटारा’।

अब कुछ नया बता दिया जाये- मनोरंजन मीनू में अब अंग्रेजी समावार चैनल एनडीटीवी 24X7  लाइव जोड़ दिया गया है। इसके साथ ही आपके सप्ताहंत के लिये ’दिलवाले दुलहनिया ले जायेंगे’।

आपने अपने सभी मित्रों को हिंदी टूलबार पिटारा के बारे में तो बता दिया है ना?

अपने मित्रों को बतायें

आपने हमारा नया रेडियो देखा?

radio.JPG

इस टूलबार में सबसे ज्यादा जिस चीज को पसंद किया जाता है वह है इसका रेडियो। इसके रेडियो में कुछ बदलाव किये गये हैं। नया रेडियो छोटा है और कम जगह घेरता है। वोल्युम का बटन अब जब आप स्पीकर पर क्लिक करते हैं तो ही दिखता है। अब हमने इसमें हिदी के अलावा कुछ अन्य भारतीय भाषाओं जैसे गुजराती, पंजाबी, तमिल, बांग्ला के चैनल भी जोड़े हैं। कुछ विदेशी इंस्ट्रूमेंटल चैनल भी जुड़े हैं। अब तक इस रेडियो में 90 के करीब चैनल जुड़ चुके हैं। इस रेडियो में आप अपनी पसंद का कोई भी चैनल जोड़ सकते हैं। यहां तक कि आप अपनी हार्ड डिस्क से भी कोई भी mp3 फाइल इस रेडियो में चला सकते हैं।   इस रेडियो में यदि आप भी  अपनी पसंद का कोई चैनल जुड़वाना चाहते हैं अथवा कोई पॉडकास्ट इसमें जुड़्वाना चाहते हैं तो हमें उसका लाइव स्ट्रीम का पता भेजिये हम उसे इस रेडियो में जोड़ देंगे।

नोट: यदि आपको नये डिजाइन का रेडियो अपने टूलबार पर नजर नहीं आ रहा तो कृपया अपने टूलबार को फिर से डाउनलोड करके स्थापित कर लें।


हिंदी टूलबार यहां से डाउनलोड करें



दुनिया की सैर अब टूलबार पर



अब आप दुनिया की सैर करने के लिये तैयार हो जाइये। हम ने अब हिंदी टूलबार में गूगल अर्थ का विजेट लगा दिया है। बस एक क्लिक कीजिये और दुनिया के किसी भी शहर के नक्शे को सर्च कीजिये। यह बहुत ही आसान और मजेदार है। इसमें और भी कई ऑप्शन्स हैं जैसे कि याहू मैप और माइक्रोसॉफ्ट VE.इस विजेट को मनोरंजन मीनू में दुनिया की सैर के नाम से लगाया गया है। बस क्लिक करें और सैर करें।

आपके चिट्ठों के लिंक और ढेर सा मनोरंजन, अब सब मिलेगा हिंदी टूलबार में

list.jpg हिंदी टूलबार में हमने कुछ चुने हुए चिट्ठों के लिंक जोड़े हुए थे। यह संभव भी नहीं था कि सारे हिंदी चिट्ठों के लिंक इस टूलबार में जोड़े जायें और फिर नित नये बनते हिंदी चिट्ठों का हिसाब किताब रखना और उन्हें जोड़ते जाना वाकई टेढ़ी खीर होता। इसका हल सुझाया चिट्ठाजगत  ने। उन्होंने चिट्ठाजगत पर शामिल चिट्ठों की सूची को टूलबार में जोड़ने का हमारा अनुरोध स्वीकार कर लिया और हम आ गये सभी चिट्ठों के लिंक इस टूलबार में ले कर। इसमें आप अपने चिट्ठे तो देख ही सकेंगे दूसरे चिट्ठे जो आप पढ़ना चाहते हैं उनके URL पते न तो आपको याद रखने की आवश्यक्ता होगी और न ही बार बार उन्हें टाइप करने का झंझट। बस चिट्ठों की सूची पर जायें और मनचाहे चिट्ठे पर क्लिक करें और पहुंच जायें।

 


 


 


 


 


 


 


अब बात मनोंरंजन की।




menu.jpg
इस टूलबार पर हमने एक मनोरंजन का एक ड्रापडाउन मीनू बनाया है। इसमें हमने आपके मनोंरंजन का भरपूर इंतजाम किया है।

 


 


 


 


 


 



सबसे पहले इसमें जो विजेट लगा है वह है डिज्लर का । डिज्लर में आप अपने पसंद का संगीत, वीडियो, रेडियो तथा गेम्स सर्च कर सकते हैं, उन्हें बजा सकते हैं और चाहें तो उन्हें बुकमार्क भी कर सकते हैं। पहली बार जब मैंने इसे परखा तो घंटों कैसे बीत गये पता ही नहीं चला। बहुत ही मजेदार विजेट है यह आपको जरूर पसंद आयेगा।
dizzler.jpg

 


 


 


 


 


 


 


 


 


 


इसके बाद आती है वीडियो की दीवार। इसे खोलते ही आपकी स्क्रीन पर इंटेरनेट पर हिंदी के वीडियो क्लिप एक दीवार के रूप में आपके सामने आ जाते हैं, उसमें से चाहे कोइ वीडियो क्लिप चुनिये और चलाइये।


videowall.jpg


 


इसके बाद जुड़े हैं बहुत से  भारतीय टीवी चैनल। क्लिक कीजिये और लाइव मजे लीजिये।


आखिर में एक विजेट है अंतर्राष्ट्रीय टीवी चैनलों का। इसमें आपको सैंकड़ों विदेशी टीवी चैनल देखने को मिलेंगे।

मनोंरंजन के मीनू में जल्द ही और भी बहुत कुछ जुड़ेगा बस थोड़ा इंतजार कीजिये।

चलते चलते आपको एक बात बता दें कि आपका यह टूलबार तेजी से लोकप्रिय हो रहा है इसके डाउनलोड दिनों दिन तेज गति से बढ़ते जा रहे हैं।

अंत में पाठकों और टूलबार के प्रयोगकार्तांओं से एक अनुरोध, चुप न बैंठें, हमारे प्रयासों पर अपनी राय बतायें। आपको इस टूलबार मे क्या पसंद है और क्या नापसंद यह भी बतायें। आप अपने सुझाव भी दें कि आप इस टूलबार में और क्या क्या देखना चाहते हैं।

’धड़ाधड़ महाराज’ तक पहुंचें धड़ाधड़

tbcj.jpgtbcj.jpg


चिट्ठाजगत के धड़ाधड़ महाराज हमें कई तरह की सुविधायें देते हैं। चिट्ठाजगत हमें कई प्रारूपों में तो मिलता ही है, यहां हम अपनी व्यक्तिगत रुचि के अनुसार भी अपना वैयक्तिक पृष्ठ बना सकते हैं। और भी कई प्रकार की सुविधायें हैं चिट्ठाजगत पर|  उम्मीद है कि आगे चल कर धड़ाधड़ महाराज हमें और भी ज्यादा सुविधायें प्रदान करेंगे।
cjdd.jpg

 


चिट्ठाजगत पर हमें 'हाल में छपे चिट्ठे', 'पारम्परिक प्रारूप', 'लघु प्रारूप', 'वैयक्तिक पृष्ट' और 'मेरे चिट्ठे' के प्रारूपों के विकल्प मिलते हैं। हमने यह सारे प्रारूपों के लिंक एक साथ हिंदी टूलबार में रख दिये हैं जिससे आप अपनी रुचि के अनुसार जिस प्रारूप पर भी जाना चाहें सीधे उसी प्रारूप पर जा सकते है।

धड़ाधड़ महाराज तक धड़ाधड़ कैसे पहुंचें:


यह है चिट्ठाकारों के लिये बहुत काम की बात। हमने हिंदी टूलबार पर एक बटन लगाया है ’सारे अधिकृत चिट्ठे अभी चिट्ठाजगत पर खींचे’ । आप जब भी अपने चिट्ठे पर कोई पोस्ट करते हैं तो बस इस बटन पर क्लिक कर दें। एक छोटी सी खिड़की खुलेगी। आपको लॉग इन करना होगा और आपके सभी अधिकृत चिट्ठों की नयी पोस्ट उसी समय चिट्ठाजगत पर नजर आने लगेगी। यदि आप पहले से चिट्ठाजगत पर लॉग इन किये हुए हैं तो आपको फिर से लॉग इन करने की जरूरत नहीं होगी, सिर्फ क्लिक कर देना ही काफी होगा। मजे की बात यह है कि इस प्रक्रिया के लिये कोई जरूरी नहीं है कि आप अपने चिट्ठे पर हों या चिट्ठाजगत पर हों, आप अपने ब्राउजर पर किसी भी पेज से यह कर सकते हैं।



इसके अलावा चिट्ठों की फीड में अब नारद के साथ साथ चिट्ठाजगत की ताजा फीड भी आपको टूलबार में लगातार मिलेगी। चिट्ठाजगत की फीड में चिट्ठे का नाम भी पोस्ट के शीर्षक के साथ नजर आता है।



  आपको हिंदी टूलबार और चिट्ठाजगत का यह संयुक्त प्रयास कैसा लगा हमें जरूर बतायें|


हिंदी टूलबार यहां से डाउनलोड करें।


चिट्ठाजगत पर चिट्ठा अधिकृत करने की प्रक्रिया जानने के लिये यहां क्लिक करें।

गूगल का इंडिक ट्रांसलिट्रेशन टूल भी जुड़ा


google-trans.jpg


गूगल का हिंदी ऑनलाइन  कीबोर्ड युक्त सर्च इंजन हमने पिछली बार हिंदी टूलबार में जोड़ा था। अब हमने गूगल का इंडिक ट्रांसलिट्रेशन टूल भी हिंदी टूलबार में जोड़ दिया है। इस के बटन पर क्लिक करते ही लिखने के लिये 320 X 205  आकार का एक नोटपैड स्क्रीन पर उभर आता है। इस पर फोनेटिक हिंदी टाइप की जा सकती है। हिंदी टाइपिंग की जानकारी न रखने वालों केलिये यह टूल बहुत काम आयेगा।


आपको पता होगा कि यह वही टूल है जिसे गूगल ने सबसे पहले ब्लॉगर में हिंदी चिट्ठा लिखने के लिये सम्मिलित किया था।


इस छोटे से विजेट को आप स्क्रीन पर कहीं भी सरका सकते है। बस कुछ भी टाइप करें और कापी कर कहीं भी पेस्ट कर दें। हो गया ना हिंदी लिखना बहुत आसान!


हिंदी टूलबार यहां से डाउनलोड करें।

हिंदी कीबोर्ड के साथ गूगल सर्च अब हिंदी टूलबार में भी



gugal.jpgगूगल के नये हिंदी की बोर्ड सर्च टूल के बारे में तो आपको पता चल ही गया होगा।  यदि न पता हो तो यहां मजेदार समाचार पर पढ़ें।gugal.jpg

गूगल का नया गजेट हिंदी कीबोर्ड के साथ गूगल सर्च अब हिंदी टूलबार में भी जोड़ दिया गया है। अब आप सीधे टूलबार से ही माउस से हिंदी टाइप कर सकते हैं तथा गूगल पर हिंदी पेज सर्च कर सकते हैं।


 


 


 


 


हिंदी टूलबार यहां से डाउनलोड करें।

हिंदी टूलबार के बारे में विस्तार से




हिंदी टूलबार के बारे में हमने जब भी चर्चा की है, इस टूलबार कि किसी एक सुविधा की चर्चा की है। आज हम इस टूलबार के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे जिससे यह पता चल जाये कि इस टूलबार में वास्तव में कितना कुछ है। इससे जिन्हों ने इस टूलबार को स्थापित नहीं किया है उन्हें भी और जिन्होंने इसे स्थापित किया है उन्हें भी इसके बारे में विस्तार से पता चल जायेगा।
यह टूलबार इंटेरनेट पर हिंदी में लिखने और पढ़ने वालों के लिये बहुत ही काम का टूल है। इसमें आपको हिंदी की सभी साइट्स के लिंक मिलते है इसके अलावा चिट्ठासर्च, हिंदी लिखने में सहायता, एक क्लिक पर नारद, परिचर्चा और चिट्ठाचर्चा, सभी हिंदी पत्रिकाओं के लिंक, सभी हिंदी के लिंक, एग्रीगेटरों के लिंक, क्रिकेट का स्कोरकार्ड, ऑनलाइन रेडियो, पॉप अप ब्लॉकर, इमेल नोटिफायर, गुगल समाचार और नारद के आर एस एस लाइव फीड, गुगल पेज रेंक, बुकमार्क करने की सुविधा, कुछ चिट्ठों के लिंक, बहुत से गजेट्स जैसे कि आपके शहर का मौसम और लाइव टीवी भी शामिल हैं।

अभी तक इस टूलबार की एक हजार से भी अधिक प्रतियां डाउनलोड हो चुकी हैं।

आइये इस टूलबार के बारे में विस्तार से जानते हैं।

सर्च1. सर्च : इसमें सामान्य गुगल सर्च के आलावा इमेज, न्यूज, स्टॉक और मौसम की खोज तो है ही, चिट्ठाखोज में आप सभी एग्रीगेटरों से भी सीधे सर्च कर सकते हैं। यानि जो कुछ भी आप चिट्ठाखोज पर सर्च करते हैं वह केवल नारद, हिंदीब्लॉग्स, चिट्ठाजगत और ब्लॉगवाणी से सर्च होगा।

2. हिंदी लिखें: इस बटन में कुशिनारा टूल का लिंक दिया गया है। इसे क्लिक करते ही आप जिस भी साइट या चिट्ठे पर हों, आप वहां हिंदी में लिख पायेंगे बिना किसी अन्य सॉफटवेयर की सहायता के। यानि अगर आपने अपने कंप्यूटर पर हिंदी लिखने का कोई अलग से सॉफटवेयर नहीं स्थापित किया है तो भी आप हिंदी लिख पायेंगे। इस टूल में आप फोनेटिक हिंदी लिख सकते हैं यानि यदि आपको ’भारत’ लिखना है तो आप ’bharat’ ही टाइप करेंगे।

 


 


3. परिचर्चा, नारद तथा चिट्ठाचर्चा: एक क्लिक पर आप इन साइट्स पर जा सकते हैं।



पत्रिकाएं4. पत्रिकायें : इस ड्रॉप डाउन मीनू में नेट पर हिंदी की 25 पत्रिकाओं के लिंक हैं। यानि यदि अप हिंदी पत्रिकायें पढ़ने के शौंकीन हैं तो न तो लिंक के पते याद रखने का झंझट और न ही बुकमार्क करने की जरूरत।

 


 


 


 


 


 


 


 


 


 


 


 


 


 


 


 


5. काम के लिंक : इसमें आपको मिलेंगे बहुत से काम के लिंक। सबसे पहले समाचार में हिंदी की सभी समाचारों कि साइट्स के लिंक हैं। इसके बाद हिंदी के शब्द कोश, फिर हिंदी के सर्च इंजन, इसके बाद हिंदी लिखने के सभी ऑनलाईन और ऑफ्लाइन टूल्स, गुगल और याहू समूह के लिंक और बहुत से अन्य काम के लिंक हैं।


काम के लिंक



6. एग्रीगेटर: हिंदी के सभी एग्रीगेटरों के लिंक इस मीनू में हैं। जितने भी और नये एग्रीगेटर आयेंगे उनके लिंक यहां जोड़े जायेंगे।


7. क्रिकेट स्कोर कार्ड : इसमें जुड़ा है लाइव क्रिकेट स्कोर कार्ड। इस स्कोर कार्ड पर अपने आप अपडेट होने वाला स्कोर कार्ड है जो विश्व में कही भी हो रहे क्रिकेट मैच का लाइव स्कोर देता है। इस छोटे से विजेट को आप स्क्रीन पर कहीं भी लेजा सकते हैं।


स्कोरकार्ड


8. रेडियो : यह यंत्र इस टूलबार की खास विशेषता है। टूलबार में जुड़े़ इस रेडियो में पचास से अधिक हिंदी संगीत के रेडियो जो कि नेट पर उप्लब्ध हैं, जोड़े गये हैं। इनमे आल इंडिया रेडियो से प्रसारित दैनिक दोपहर समाचार जो कि आधे घंटे का समाचार का कार्यक्रम है वह भी जुड़ा है और इसके साथ साथ आकाशावाणी के हर घंटे प्रसारित होने वाले पांच मिनट के हिंदी समाचार बुलेटिन भी अपने आप हर एक घंटे में अपडेट होते हैं।

आप चाहें तो आप अपने लाईव स्ट्रीम भी इसमें जोड़ सकते हैं।

इस सब के अलावा इस रेडियो प्लेयर की एक खूबी यह भी है कि आप इस पर अपनी हार्ड डिस्क पर सुरक्षित संगीत भी सुन सकते है यानि इंटेरनेट पर सर्फ करते करते संगीत सुनने के लिये आपको अलग से मीडिया प्लेयर या और कोई ऐसा कार्यक्रम चलाने की आवश्यकता नहीं है।

9. इमेल नोटिफायर : आप इसमें अपने इमेल एकाउंट को सैट कर सकते हैं। आप इसमें हॉटमेल, याहू, जीमेल तथा कोई भी POP एकांउट सैट कर सकते हैं। नयी मेल आने पर यह नोटिफायर आवाज के साथ आपको सूचित करता है।


10. पॉप अप ब्लॉकर : किसी भी साइट पर तंग करने वाले पॉप अप रोकने के लिये।


11. समाचर फीड : गुगल समाचार की आर एस एस फीड जिसमें आप पचास ताजा समाचारों के शीर्षक देख सकते हैं।


12. चिट्ठों की फीड: यदि आपको बार बार नारद पर झांकने की आदत है तो आपके बहुत काम का बटन है। इसमें चिट्ठों की ताजा फीड अपने आप अपडेट होती रहती है।


13. चिट्ठों की सूची: हिंदी के कुछ अच्छे चिट्ठों की सुची जहां आप सीधे क्लिक करके इन में से किसी भी चिट्ठे पर पहुंच सकते हैं।

14. संदेश : यहां आपको टूलबार में हुए ताजा परिवर्तनों के बारे में सूचित किया जायेगा। यह संदेश दोनों तरफ से काम करते हैं अर्थात यदि आप भी कोई सुझाव देना चाहते हैं, टूलबार में कोई समस्या आ रही है अथवा आप टूलबार के प्रयोगकर्ताओं को कोई संदेश देना चाहते हैं तो आप भी यहां संदेश भेज सकते हैं।


15. गेम्स : यहां आप कभी कभी छोटे छोटे गेम्स खेल सकते हैं।

गेम्स

 


 


 


 


 


 


 


 


 


 


 


 


 


 


 


16. मौसम : आपके शहर का लाइव मौसम तथा आने वाले दिनों के लिये मौसम की भविष्यवाणी यहां है।


17. गुगल पेज रैंक : यहां आप जिस साइट पर जा रहे हैं उसका गुगल पेज रैंक भी देख सकते हैं।


इसके अलावा आप इसमे और भी कई गजेट्स जोड़ सकते हैं जिनमें प्रमुख है लाइव टीवी।

अपको इस बात का भी नियंत्रण होगा कि आप इस टूलबार में कौन सा कंपोनेट रखना चाहते हैं तथा कौन सा कंपोनेट हटाना चाहते हैं।

हिंदी टूलबार यहां से डाउनलोड करें।

यदि आप इस टूलबार के लिये कोई सुझाव देना चाहते हैं तो आपका स्वागत है।

इसे भी पढ़ें
हिंदी कीबोर्ड के साथ गूगल सर्च अब हिंदी टूलबार में भी
गूगल का इंडिक ट्रांसलिट्रेशन टूल भी जुड़ा

Tags: , , , , ,


 




AddThis Social Bookmark Button

हिंदी टूलबार के चिट्ठे पर आपका स्वागत है

हिंदी टूलबार के चिट्ठे पर आपका स्वागत है। हिंदी टूलबार इंटेरनेट पर हिंदी पढ़ने और हिंदी लिखने वालों के लिये एक महत्वपूर्ण टूलबार है। क्योंकि हिंदी टूलबार में हम लगातार बदलाव लाते रहते हैं तथा हमेशा कोशिश करते हैं कि इसमें ज्यादा से ज्यादा खूबियां जोड़ी जायें, इस चिट्ठे के जरिये हम इस टूलबार में आने वाले बदलावों के बारे में सूचित करते रहेंगे। 

आप भी इस टूलबार को प्रयोग करें तथा अपने अनुभवों और सुझावों से हमें अवगत करायें।